logo
Apply Dedicated Logistics & Hotel Management Job Portal x
10th July 2022 By IEPS
blog

आने वाले वर्षों में लॉजिस्टिक्स और सप्लाई चेन मैनेजमेंट बिजनेस में बड़े पैमाने पर लोगों को रोजगार मिल सकता है। कंपनियों का कहना है कि सरकार ने इस क्षेत्र के लिए दो बड़े कदम उठाए हैं, जिनका इस पर पॉजिटिव असर होगा। इनमें से एक है जीएसटी और दूसरा लॉजिस्टिक्स सेक्टर को इंफ्रास्ट्रक्चर का दर्जा देना।


कंपनियां बेस्ट टैलेंट को हायर करने के लिए अभी से अच्छी सैलरी ऑफर कर रही हैं। इस डोमेन में 5-8 साल का एक्सपीरियंस रखने वाले को मिड मैनेजमेंट लेवल की पोजिशन ऑफर की जा रही है। दूसरा दिलचस्प पहलू यह है कि कई फ्रेश ग्रैजुएट्स, कंपनियों के लिए फ्रीलांसिंग कर रहे हैं और वे आर्टिफिशल इंटेलिजेंस और बिग डेटा को अपनाने में उनकी मदद कर रहे हैं। इंडस्ट्री पर नजर रखने वालों का कहना है कि इन रोल्स में 80 लाख रुपये या इससे अधिक की सालाना सैलरी ऑफर की जा रही है।

मिड और सीनियर मैनेजमेंट पोजिशंस के लिए पिछले साल की तुलना में इस साल 25 पर्सेंट अधिक सैलरी ऑफर की जा रही है। ग्लोबल रिक्रूटमेंट कंपनी माइकल पेज के डायरेक्टर प्रियांशु उपाध्याय ने यह जानकारी दी। कॉन्ट्रैक्ट बेसिस पर कई बार जिन ग्रैजुएट्स को हायर किया जाता है, वे इन कंपनियों और नए टेक्नॉलजी और ऑटोमेशन पार्टनर्स के बीच इंटरफेस का काम करते हैं। उपाध्याय ने बताया कि इससे कंपनियों को बेहतर ढंग से लॉजिस्टिक्स और सप्लाई चेन मैनेजमेंट में मदद मिलती है। उन्होंने बताया कि लॉजिस्टिक्स और सप्लाई चेन में करीब 1 लाख ऐसे प्रफेशनल्स हैं, जिनकी सैलरी 5 लाख रुपये से 1 करोड़ रुपये सालाना के बीच है। पिछले कुछ साल में इनकी संख्या में कई गुणा की बढ़ोतरी हुई है। कम से कम अगले 5 साल तक इनकी संख्या में 8 पर्सेंट CAGR से बढ़ोतरी की उम्मीद की जा रही है।

सबसे अधिक रोजगार ऑटोमोबाइल, कंस्ट्रक्शन और इंजिनियरिंग कंपनियां दे रही हैं। इसके बाद ऑयल ऐंड गैस, FMCG, हेवी मशीनरी, कूरियर कंपनियां और रिटेल कंपनियों का नंबर आता है। DHL सप्लाई चेन इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर विकास आनंद ने बताया, ‘इस सेगमेंट में हायरिंग को 3 हिस्सों में बांटा जा सकता है। एंट्री लेवल, मिडल मैनेजमेंट और टेक्नॉलजी कंसल्टेंट्स।’ DHL सप्लाई चेन इंडिया, डोएचे पोस्ट DHL का हिस्सा है जो आमदनी के लिहाज से दुनिया की सबसे बड़ी लॉजिस्टिक्स कंपनी है।

उन्होंने बताया, ‘पहले लॉजिस्टिक्स कंपनियों में काम करने वाले टॉप FMCG और रिटेल कंपनियों को ज्वाइन करने की हसरत रखते थे। अब यह ट्रेंड पलट रहा है। अगर आपके पास DHL जैसी कंपनी में काम करने का तजुर्बा है तो यह बड़ी बात है।’ कंज्यूमर डिमांड, रिटेल बूम, ई-कॉमर्स रिटेल में तेजी और इंडस्ट्रियल ऐक्टिविटी बढ़ने से एफिशंट लॉजिस्टिक्स और सप्लाई चेन सलूशन्स की मांग बढ़ी है